Wednesday, January 19th, 2022

प्राची ने इस तरह से घटाया 32kg वेट , जाने रूटीन

वजन बढ़ने की दिक्कत आज कल लोगों में बहुत ज्यादा बढ़ती जा रही है। वहीं बढ़ा हुआ वजन न केवल आपकी बॉडी शेप को खराब करता है। बल्कि यह आपको कई दूसरी बीमारियों की ओर भी धकेल देता है। ऐसे में जब वजन बढ़ने की वजह ही कोई शारीरिक समस्या हो तो स्थिति और भी परेशान करने वाली हो जाती है। ऐसा ही कुछ था 26 वर्षीय प्राची जलानी के साथ। प्राची PCOS की समस्या से पीड़ित थी। जिसकी वजह से उनका वजन बहुत तेजी से बढ़ गया था। वहीं कोरोना के दौरान लगाए गए लॉकडाउन में उन्होंने अपनी स्थिति को गंभीरता से लेना शुरू कर दिया।
लेकिन खुद की बॉडी शेप को बदलता देख और फिर से फिट होने की चाह ने प्राची को असंभव दिखने वाला काम करने के लिए भी प्रेरित कर दिया। इसके बाद महज कुछ ही समय में प्राची ने 32 किलो वजन घटा लिया। आइए जानते हैं कैसे किया उन्होंने यह कारनामा।

    नाम - प्राची जलानी
    प्रोफेशन - मार्केटिंग स्पेशलिस्ट
    उम्र - 26 साल
    लंबाई - 156 सेमी
    शहर - वडोदरा, गुजरात
    अधिकतम वजन - 90 किलोग्राम
    वेट लॉस - 32 किलोग्राम
    वजन कम करने में समय - 11 महीने

​ऐसे हुई वेट लॉस जर्नी की शुरुआत

प्राची बताती हैं कि उन्हें पीसीओएस की समस्या थी जो उनकी हेल्थ पर बहुत प्रभाव डाल रही थी। इसके बाद कोरोना के दौरान लगाए लॉकडाउन में उन्हें अपने बढ़ते वजन का एहसास हुआ। वह बताती हैं कि खाने पीने और बिना किसी फिजिकल एक्टिविटी की वजह से वजन बढ़ता ही जा रहा था। वह अपने पसंदीदा कपड़े भी नहीं पहन पाती थी। वह खुद की बॉडी शेप को लेकर जरा भी खुश नहीं थी। इसी के बाद उन्होंने तय किया कि वह अपना वजन घटाएंगी। वह कहती हैं कि इस बात में कोई शक नहीं है कि यह बहुत मुश्किल था। लेकिन वह अपने गोल्स तक पहुंचने के लिए बहुत फोकस और पैशनेट थी।

​कैसी थी प्राची की डाइट

प्राची के मुताबिक उन्होंने अपने खाने पीने की आदतों में कुछ खास बदलाव किए। वह भी ऐसे बदलाव जिन्हें वह लंबे समय तक फॉलो कर सकें। इसमें उन्होंने फैड डाइट का सहारा बिल्कुल भी नहीं लिया। बल्कि अपने लिए कस्टमाइज्ड डाइट तैयार की।

    ब्रेकफास्ट -
    अंडा खाती थी, जिसमें वह कभी उबालकर तो कभी आमलेट लेती थी। इसके अलावा कॉम्पलेक्स कार्ब्स युक्त पदार्थ, साथ में कुछ हेल्दी फैट जैसे घी, चीज, बटर आदि। इसके अलावा वह नारियल पानी या तरबूज का रस पिया करती थी।
    लंच -
    बाजरे, ज्वार या फिर मल्टी ग्रेन से बनी रोटी खाती थी। इसके साथ वह सब्जियां, सलाद लेती थी। इसके अलावा वह आंत के गुड बैक्टीरिया को बढ़ाने और पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए छाछ, दही या योगर्ट का सेवन करती थी।
    डिनर -
    वह रात के समय अपने प्रोटीन की मांग को पूरा करने के लिए दाल और ग्रेन का सेवन करती थी। इसके अलावा उनका फोकस सही खाने पर था ना कि भोजन की मात्रा को कम करने पर। उनके इसी मंत्र ने वजन घटाने में प्राची की मदद की।
    पोस्ट डिनर -
    अगर उन्हें मीठा खाने की क्रेविंग होती थी, तो वह घर पर तैयार किए गए चॉकलेट कोटेड शुगर फ्री डेट बॉल्स का सेवन करती थी।

​वर्कआउट मील

    प्री वर्कआउट मील - वह घर पर ही एक्सरसाइज करती थी। एक्सरसाइज से पहले वह कुछ भी नहीं खाती थी।
    पोस्ट वर्कआउट मील -वर्कआउट के बाद प्रोटीन की पूर्ति हेतु और मसल्स गेन के लिए वह 2 अंडों का सेवन करती थी।
    चीट डे - अपनी वेट लॉस जर्नी के दौरान उन्हें महसूस नहीं हुआ की उन्हें चीट डे की जरूरत है। इस दौरान उनका कभी जंक फूड खाने का मन करता भी तो वह रागी के आटे से बना पिज्जा या लो कैलोरीज आइसक्रीम बनाकर खाया करती थी।
    लो कैलोरी रेसिपी - दाल चीला, बैरीज, स्मूदी बाउल, रागी डोसा, नारियल की चटनी, अंडे, हरी सब्जियां और दाल आदि।

​एक्सरसाइज

प्राची बताती हैं कि शुरुआत के कुछ समय वह केवल सही खाने पीने और अच्छी आदतों पर ही बनी हुई थी। लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने 20 मिनट एक्सरसाइज करना शुरू किया। इसमें वह हाई इंटेंसिटी एक्सरसाइज करती थी। वह कहती हैं कि वर्कआउट करने से उन्हें न केवल वजन कम करने में सहायता मिली। बल्कि वह तनाव से भी मुक्त रहने लगी थी।

​फिटनेस सीक्रेट्स

प्राची के मुताबिक एक स्थायी और अच्छी जीवन शैली पर बने रहना ही खुद को फिट रखने और वजन घटाने का तरीका है। वहीं वह मानती हैं कि हर व्यक्ति का स्वास्थ्य और शरीर अलग - अलग होते हैं। ऐसे में बॉडी की डिमांड को समझना जरूरी है। वह कहती हैं, इसलिए अपनी बॉडी की सुने और फिर ही अपने गोल्स को तय करें।

​जीवन शैली में बदलाव

प्राची का कहना है कि वजन घटाने के लिए उन्होंने किसी तरह की फैड डाइट का पालन नहीं किया। बल्कि उन्होंने एक ऐसी जीवन शैली का निर्माण किया जिसका पालन वह लंबे समय तक कर सकती हैं। इसमें उन्होंने रिफाइंड फूड और प्रोसेस्ड फूड को पूरी तरह से बाय बाय कह दिया था। साथ ही घर के बने भोजन को ही अपनी प्राथमिकता दी। इसके अलावा उनका कहना है कि भोजन की मात्रा को नहीं। बल्कि उसे सही रखने पर ध्यान दें।

Source : Agency

आपकी राय

13 + 6 =

पाठको की राय